भारत के 2 टुकड़े करने वाले के बलूचिस्तान लिब्रेशन आर्मी ने उसके हजार टुकड़े कर दिए

भारत का गद्दार मोहम्मद अली जिन्ना जिसके कारण अखंड भारत के दो टुकड़े हो गए थे। जिसके मजहबी उन्माद ने पाकिस्तान को जन्म दिया। पाकिस्तान मोहम्मद अली जिन्ना  के द्वारा बनाया गया। उन्होंने पाकिस्तान को बनाते समय बड़े सपने देखें थे कि पाकिस्तान अमन पसंद लोगों का आशियाना होगा। लेकिन एक कहाबत हैं कि जिस चीज की नींव नफ़रत के आधार पर रखी हों। वो कभी भी फलती फूलती नहीं है। उसी का परिणाम है कि पाकिस्तान की नींव रखने वाले जिन्ना की बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी ने उनकी मूर्ति को बारूद से उड़ाकर हजार टुकड़े कर दिए।


मुख्य विषय

1. बलूचिस्तान लिब्रेशन आर्मी ने जिन्ना की मूर्ति को बारूद से उड़ाया।

2. मोहम्म्द अली जिन्ना की मूर्ति स्थापित थी।

3. मोहम्मद अली जिन्ना की मूर्ति बलूचिस्तान लिब्रेशन आर्मी  क्यों उड़ाया।

4. चीन पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर का बलूच

 द्वारा विरोध

5. पाकिस्तानी सेना ने क्या बताया।


मोहम्मद अली जिन्ना की मूर्ति उड़ाने का मामला पाकिस्तान के अशांत प्रांत बलूचिस्तान से संबंधित है। पाकिस्तान के प्रसिद्ध समाचार पत्र डॉन के अनुसार, मोहम्मद अली जिन्ना का यह स्टेच्यू अभी इसी वर्ष मरीन ड्राइव पर स्थापित किया गया था। जिसको पाकिस्तान में सुरक्षित स्थान माना जाता है। कुछ अधिकारियों का कहना है कि कुछ उग्रवादी लोगों ने मूर्ति के नीचे बारूद रखकर उड़ा दिया। 


बलूचिस्तान लिब्रेशन आर्मी ने मोहम्मद अली जिन्ना की मूर्ति को उड़ाने की जिम्मेदारी ली है। उन्होंने आगे कहा कि हमने मरीन ड्राइव पर हमला कर  पाकिस्तान के एक स्नाइपर को मार दिया और दो पाकिस्तानी सेना के जवानों को भी घायल कर दिया। पाकिस्तान के एक अशांत प्रांत बलूचिस्तान, जो पाकिस्तान के साथ नहीं रहना चाहता है और जिसकी आजादी के लिए बलूचिस्तान लिब्रेशन आर्मी की स्थापना हुई। जिसने पाकिस्तानी सेना के अत्याचारों का डट कर मुकाबला किया और हजारों पाकिस्तानी सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया। ये लोग आये दिन पाकिस्तानी सेना पर आक्रमण करते रहते हैं। बलूचिस्तान लिब्रेशन आर्मी बलूचिस्तान को पाक से आजाद कराना चाहती है।  इसी कारण से बलूच लोग मोहम्मद अली जिन्ना को भी पसंद नहीं करते हैं। इसके साथ ही बलूचिस्तान के लोग चीन पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर का भी विरोध करते हैं। इसलिए बलूचिस्तान लिब्रेशन आर्मी ने पाकिस्तान के कायदे आजम मोहम्मद अली जिन्ना की मूर्ति को बारूद से उड़ा दिया। 

इस मामले पर ग्वादर क्षेत्र के सुरक्षा अधिकारी मेजर अब्दुल कबीर ने बताया है कि कुछ  हमलावर पर्यटक के रूप में आये थे और फिर उन्होंने ने जिन्ना की मूर्ति के नीचे बारूद से भरा उपकरण रख कर विस्फोट कर दिया। सभी हमलावर मूर्ति को उड़ाकर वहां से भाग निकले। जांच पड़ताल की जा रही है कि इस हमले में किसका हाथ है। लेकिन अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। 


Post a Comment

Previous Post Next Post