ब्रिटिश सांसद ने कहा, कि यदि कश्मीर में भारतीय सेना न होती। तो कश्मीर तालीबान का अफगानिस्तान बन गया होता।

ब्रिटिश संसद आये दिन भारत के आंतरिक मामलों पर चर्चा करती रहतीं है। इस बार भी भारत के अभिन्न अंग कश्मीर पर ब्रिटिश संसद में बहस हुई है। जिसमें पाकिस्तान मूल के सांसदों और कम्युनिस्ट विचारधारा वाले सांसदों ने भारत के खिलाफ़ जहर उगला है। लेकिन एक ब्रिटिश सासंद ने भारत का पछ लेकर पाकिस्तानी मूल के सांसदों के अरमानों पर पानी फेर दिया। 



बॉब ब्लैकमैन का कश्मीर पर ब्रिटिश संसद में भाषण

लेकिन इसी ब्रिटिश संसद में एक सांसद ने जो कुछ कहा। उससे दुनिया की आंखे खोल दी होंगी। उन्होंने ब्रिटिश संसद में बोला कि कश्मीर के बारे में एक तथ्य है कि कश्मीर देखने के लिए बहुत ही सुन्दर जगह है। जहां व्यापार, पर्यटन, जल विद्युत उत्पादन और दुसरी वस्तुओं के लिए ढेर सारी संभावनाएं हैं। लेकिन कश्मीर में आतंकी हमले, हत्याएं और जोर जबरदस्ती शादी इस्लामिक आतंकियों द्वारा कार्य किए जा रहे हैं। हमें याद रखना चाहिए कि कश्मीर घाटी मुख्य रूप से मुस्लिम बहुल क्षेत्र है और जम्मू हिंदू बहुल क्षेत्र है तथा लद्दाख एक बौद्ध बहुल इलाका है।

सांसद ने आगे कहा कि एतिहासिक रूप से घाटी में सताये गए धार्मिक अल्पसंख्यक हिंदू, बौद्ध सिख और ईसाई हैं। उन्होंने अफगानिस्तान का उदाहरण देते हुए कहा कि हम सबसे देखा। कि अफगानिस्तान में क्या हुआ और जो कुछ हुआ है। उसको पुरी दुनिया ने देखा है। इसलिए यदि भारत की सेना कश्मीर में नहीं रहती है। तो इस्लामी ताकतें कश्मीर से लोकतंत्र खत्म कर देगी। सांसद महोदय ने आगे कहा कि वो भारतीय सेना ही है। जिसने भारतीय कश्मीर को तालिबान का अफगानिस्तान बनने से रोक रखा है। उन्होंने यह भी कहा है कि कश्मीर भारत से ऐतिहासिक और कानूनी रूप से भारत का अभिन्न हिस्सा है। 

सांसद का परिचय

भारतीय सेना ने ही कश्मीर का तालिबानीकरण होने से रोके हुईं है। यह कहने वाले ब्रिटिश कंजरवेटिव पार्टी के सांसद बॉब ब्लैकमैन हैं। जो ब्रिटेन के हारो ईस्ट से चुनकर आए हैं।     बॉब ब्लैकमैन भारतीय पीएम के फैन है और वह भारतीय मोदी सरकार के तथा भारत के बहुत बड़े समर्थक हैं। 

लेकिन इस बार उन्होंने कश्मीर के बारे में जो कुछ वोला है। वो सौ फीसदी सच है। क्यों कि भारत की सेना ही इस्लामिक आतंकवाद से कश्मीर को बचाएं हुए हैं। अन्यथा कश्मीर एक नया अफगानिस्तान बन गया होता। सभी इस्लामिक कट्टरपंथि ताकतें कश्मीर से लोकतंत्र को उखाड़ कर फेंक देती। 

     

Post a Comment

Previous Post Next Post