यूएन महासचिव वोले मानवता के लिए दुनिया परमाणु हथियारों को ख़त्म करें।

संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस वोले कि परमाणु हथियार से संपन्न देश अपने अपने परमाणु हथियारों का उन्मूलन करें।


उन्होंने यह बात 26 सितंबर के परमाणु हथियार उन्मूलन दिवस पर कहीं। कि दुनिया को मानवता की भलाई के लिए परमाणु हथियारों का उन्मूलन करना चाहिए।

मुख्य विषय

1.26 सितंबर परमाणु हथियार उन्मूलन दिवस।

2. दुनिया में शांति और समृद्धि के लिए परमाणु हथियारों का उन्मूलन जरूरी।

3. दुनिया में कुल परमाणु हथियारों की संख्या।

4. परमाणु हथियारों से लैस देशों की संख्या।

 

दुनिया से परमाणु हथियारों के खात्मे की बात यूएन महासचिव ने 26 सितंबर को अंतरराष्ट्रीय परमाणु हथियार उन्मूलन दिवस के दिन कहीं। उनका कहना है कि दुनिया के शांतिपूर्ण और स्थाई भविष्य के लिए पूर्ण रूप से परमाणु हथियारों का उन्मूलन बहुत ही आवश्यक है। यूएन महासचिव का कहना है कि दुनिया को परमाणु हथियारों के विनाश से बचाने के लिए दुनिया का परमाणु हथियारों से पूर्ण रूप से मुक्त होना चाहिए।

यूएन की वेबसाइट के अनुसार,संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव का  कहना है कि परमाणु हथियारों का दुनिया से उन्मूलन करने का विषय। संयुक्त राष्ट्र संघ के स्थापना के समय से ही मूल उद्देश्य रहा है।

यूएन महासचिव ने कहा कि 1946 में पहले महासभा के प्रस्ताव में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विनाशक परमाणु हथियारों और दूसरे खतरनाक हथियारों के उन्मूलन की मांग की गईं थीं। 

गुटेरेस ने यह भी कहा कि दुनिया में परमाणु हथियारों की संख्या में गिरावट आई है। हालाकि इनकी संख्या अभी भी लगभग 13080 है।  इतनी बड़ी संख्या में अभी भी परमाणु हथियारों का होना ही, दुनिया के लिए उच्चतम जोखिम और खतरों से भरा हुआ है। दुनिया की भलाई के लिए हमारी दुनिया से परमाणु हथियारों का उन्मूलन होना बहुत ही आवश्यक है। इसके बाद दुनिया में एक दूसरे पर विश्वास, संवाद और शांती के एक नए युग की शुरूआत करने का समय है। 

कुल परमाणु शक्ति संपन्न देश

इस समय दुनिया में कुल 9 देशों के पास परमाणु हथियार हैं। जिनमें अकेले रूस और अमेरिका के पास कुल 11800 परमाणु हथियारों का जखीरा है।

1. रूस                 6225

2. अमेरिका           5550

3. चीन                 350

4. फ्रांस                290

5. ब्रिटेन                 225

6. पाकिस्तान         165

7. भारत                 156

8. इजरायल            90

9. उत्तर कोरिया       40

Post a Comment

Previous Post Next Post