तालीबान के बॉम्ब गोला बारूद वाले शिक्षा मंत्री साहब, ज्ञान ऐसा थॉमस अल्वा एडीसन भी जिंदा होते माथा पीटते।

तालीबान की सरकार अब अफ़गानिस्तान में बन गईं हैं और अफ़गानिस्तान में आज  तालिबानी सरकार का पहला दिन है। लेकिन सरकार का असर अब अफ़गानिस्तान में दिखने लगा है। 
तालीबान के अनपढ़ गंवार शिक्षा मंत्री शेख नूरुल्लाह ने ऐसा कुछ अजब गजब तरीके से विद्यार्थियों को शिक्षा दे रहा है।  उनके इन अमृत तुल्य वचनों को जो भी सुनता है और फिर सोचता होगा। कि यह लोग इस पवित्र धरती के लोग ही हैं या कहीं एलियन इनको धरती पर नही छोड़ गए। पढ़े लिखे लोग सोच रहे होंगे कि सच में कलयुग ही चल रहा है।


एक विडियो में अफ़गानिस्तान का शिक्षा मंत्री कह रहा है कि महान बनने के लिए पीएचडी और मास्टर डिग्री की आवश्कता नहीं होती है। शेख नूरुल्लाह कहता है कि मैं ख़ुद एक उदाहरण हूं, कि मेरे पास हाई स्कूल की मार्कशीट भी नहीं हूं और फिर भी इतनी महान तालिबानी सरकार का शिक्षा मंत्री बन गया हूं। जो लोग तालिबानी सरकार चला रहे हैं। उनमें कई लोगों के पास भी हाई स्कूल पास भी नहीं हैं। लेकिन तब भी वो दुनिया के महान लोग हैं।

शरीर पर बॉम्ब बांधकर स्कूल जानें वाले शिक्षा मंत्री

खुद को महान मुल्ला मौलवी सरकार का मंत्री कहना

अफ़गानिस्तान का शिक्षा मंत्री विद्यार्थियों से आगे कहता है कि आपको मेरी तरह मंत्री बनने के लिए किसी डिग्री की आवश्कता नहीं है और साथ में यह भी कहता है कि मैं  दुनिया की सबसे महान मुल्ला मौलवी का सरकार में मंत्री हूं। 

तालीबानी शिक्षा मंत्री का वायरल वीडियो

शिक्षा इस्लामिक शरीयत कानून के हिसाब से।

तालीबान ने साफ कर दिया है कि शिक्षा इस्लामिक शरीयत कानून के हिसाब से दी जाएगी। तालीबान के अनुसार लड़के और लड़कियां अलग अलग पढ़ेंगे। कोई पुरुष अध्यापक भी लडकियों को नहीं पढ़ा सकता है। तालीबान की सोच महिलाओं के लिए वहीं पुरानी है। जिसमें महिलाओं और लड़कियों को शिक्षा के अधिकार से वंचित रखना। महिलाओं के प्रति तालिबानियों में नफ़रत और संकीर्ण सोच इतनी है कि आते ही सबसे पहले महिला कल्याण मंत्रालय की ही फाइल निपटा दी। अफ़गानिस्तान की महिलाएं अब तालिबानियों के ही रहम कर्म पर जीवित रह सकती हैं।

Post a Comment

Previous Post Next Post