पाक पीएम इमरान खान का यूएन में भाषण कश्मीर, इस्लामोफोबिया, आरएसएस चरंपंथी और मोदी मुस्लिमों का नरसंहार करने वाला तक सीमित रहा।

पाकिस्तान के प्रधानमन्त्री ने यूनाइटेड नेशंस असेंबली में भाषण दिया। जिसमें उन्होंने कश्मीर राग अलापते हुए भारत और हिंदुओं के खिलाफ़ जहर उगला। दुनिया का ऐसा कोई देश नहीं होगा। जो हर वर्ष एक ही एजेंडे को यूनाइटेड नेशंस में बोलता हो। लेकिन पाकिस्तान ऐसा ही एक मुल्क है जो कश्मीर, इस्लामोफोबिया और कश्मीर में भारत के अत्याचार जेसी घिसी पीटी बातों को ही यूनाइटेड नेशंस में बोलता है।



पाकिस्तान के पीएम का यूएन में भाषण

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने यूनाइटेड नेशंस में अपने भाषण में कहा कि मुस्लिमो को बहुत देशों में निशाना बनाया जाता है। उन्होंने कहा कि बोलने की आजादी के नाम पर पवित्र कुरान को यूरोपीय देशों में जलाया जाता है और फ्रांस की पत्रिका चार्ली हेब्दो द्वारा मुस्लिमों का अपमान किया जाता है। इमरान खान आगे कहते हैं कि यूनाइटेड नेशंस को इस्लामोफोबिया के खिलाफ एक दिवस घोषित करना चाहिए और भाई साहब ने कहा कि सभी देशों को मिलकर इस्लामोफोबिया से लड़ना चाहिए।

    

इन सभी बकवास कहानियों के बाद इमरान खान भारत के ऊपर बोले कि दुनिया में केवल एक ऐसा देश है जो खुद इस्लामोफोबिया को दुनिया भर में फैला रहा है और वो देश भारत है। जिसका कारण राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विचाधारा है जो दुर्भाग्यवस भारत में इस समय शासन कर रहे हैं। इमरान खान ने आगे कहा कि इस चरमपंथी संगठन की स्थापना 1920 के दशक में नाजी के शासन की प्रेरणा से हुईं थी और उन्हीं से सर्वश्रेष्ठ जाति होने की नीति अपनाई है। जैसे नाजी यहूदियों से नफ़रत किया करते थे। इसी तरह हिंदूवादी संगठन भारत में मुस्लिमों और दूसरे अल्पसंख्यकों पर अत्याचार कर रहे हैं। 

पाकिस्तान के पीएम ने आगे कहा कि आरएसएस सोचता है कि भारत केवल हिंदुओं के लिए है और दूसरे लोगों को यहां हिंदुओं के बराबर के अधिकार नहीं मिलने चाहिए। उन्होंने नेहरू और गांधी का जिक्र करते हुए कहा कि आरएसएस ने भारत में गांधी और नेहरू के धर्मनिरपेक्ष सिद्धांत को हटाकर हिंदू राष्ट्र की नीति में बदल दिया है। जहां मतलब भारत में 200 मिलियन से अधिक मुस्लिमों पर अत्याचार किए जा रहे हैं।

फिर इमरान खान ने बाबरी मस्जिद का भी जिक्र किया और कहा कि 1992 में आरएसएस ने बाबरी मस्जिद को गिरा दिया था और गुजरात में 2002 में मुस्लिमों। का नससंहार किया गया था तथा उस समय गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी थे।

भारत ने पाकिस्तान को करारा जवाब दिया

जिस तरह से पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने यूनाइटेड नेशंस असेंबली में झूठ बोला। फिर इसके उत्तर में भारत की यूएन में पहली सेक्रेटरी स्नेहा दुवे ने जमकर पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि पाकिस्तान आतंकियोंं का घर है। जहां आतंकियों को पाला पोसा , ट्रेनिंग और फंडिंग की जाती है। पाकिस्तान ने आतंकवाद को अपने देश की पॉलिसी बना ली है और आतंकवाद का वह अपने पड़ोसियों के खिलाफ प्रयोग कर रहा है।

 

यूएन द्वारा प्रतिबंधित आतंकी सबसे ज्यादा पाकिस्तान के हैं। स्नेहा दुवे ने आगे कहा कि पाकिस्तान में ही ओसामा बिन लादेन पाया गया था और पाकिस्तान के पीएम इमरान खान उसे शहीद कहकर पुकारते हैं। उन्होंने पाकिस्तान के अल्पसंख्यकों के बारे में कहा कि कैसे पाकिस्तान में हिंदू सिख और ईसाई समुदाय पर अत्याचार होते हैं। 

उन्होंने आखिर में यूएन में कहा कि भारत में सभी अल्पसंख्यक समुदाय सुरक्षित हैं और भारतीय न्यापालिका पुरी तरह से संविधान की रक्षा के लिए स्वतंत्र हैं। योषिता सिंह ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा था, है और सदैव रहेगा। इसलिए पाकिस्तान को तुरन्त पाक अधिकृत कश्मीर को खाली कर देना चाहिए। जो उसने अवैध रूप से कब्जा रखा है।

Post a Comment

Previous Post Next Post