भारत में 100 करोड़ वैक्सीन लगने पर पूरी दुनिया भारत के पीएम मोदी बधाई दे रहीं, बोली अदभुत अल्कपनीय

आज भारत ने कोविड 19 की जंग में एक बड़ा पड़ाव हासिल कर लिया है। जिस पड़ाव की शुरुआत 10 महीने पहले 16 जनवरी 2021 को हुईं थीं और इस पड़ाव का नाम कोविड 19 टीकाकरण अभियान था। जो भारतीय प्रधानमन्त्री नरेंद्र र्फ 45 वर्ष के ऊपर वाले लोगों के लिए ही शुरू किया गया था। लेकिन इसके बाद टीकाकरण सभी वयस्क लोगों के लिए भी शुरू कर दिया गया। 




भारतीय टीकाकरण अभियान बहुत ही सुन्दर और आश्चर्य जनक रहा था। क्योंकि भारत के शुरूआती 5 महीनों टीकाकरण अभियान में मात्र 20 करोड़ वैक्सीन की खुराखें ही भारतियों को लग पाईं थी। जिसको लेकर भारत का विपक्ष सरकार पर हमलावर भी था। कोई पूछ रहा था कि मोदी जी भाषण नहीं वैक्सीन दिजिए तो कोई कह रहा था कि मोदी जी हमारे बच्चों की वैक्सीन बाहर क्यों भेज दी? लेकिन इन सभी बातों से दूर भारतीय सरकार और पीएम मोदी चुपचाप वैक्सीन उत्पादन क्षमता में मोदी जी के नेतृत्व में शुरू हुआ था। 16 जनवरि से

वृद्धि के लिए अपनी वैक्सीन उत्पादन करने वाली कंपनियों का हौसला अफजाई कर रहे थे। इसी का नतीज़ा है कि आज भारत एक महीने में 25 करोड़ से ज्यादा टीका उत्पादन कर रहा है। इसी के बदौलत भारत ने जून से अक्टूबर तक के महीने के बीच में 80 करोड़ वैक्सीन लगा दी। आज भारत ने 21 अक्टूबर 2021 को 100 करोड़ वैक्सीन लगाकर इतिहास रच दिया है। 

भारत के प्रधानमंत्री 100 टीकाकरण के अवसर पर राम मनोहर लोहिया अस्पताल में समारोह में शामिल हुए थे। जहां उनका स्वागत स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया और डॉक्टर्स ने किया। पीएम मोदी ने राममनोहर लोहिया अस्पताल में सभी चिकत्सक कर्मियों से बातचीत की और 100 करोड़ वैक्सीन का लक्ष्य पूर्ण करने के लिए धन्यवाद किया। 

प्रधानमंत्री ने मोदी ने 100 करोड़ वैक्सीन के लक्ष्य पर कहा है कि भारत लिपियों का इतिहास। हम 130 करोड़ भारतीयों की भारतीय विज्ञान, उद्यम और सामूहिक भावना की विजय देख रहे हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में आगे कहा कि 100 करोड़ टीकाकरण पार करने पर भारत को बधाई।हमारे डॉक्टरों, नर्सों और इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए काम करने वाले सभी लोगों का आभार। 


भारत के 100 करोड टीकाकरण की उपलब्धि पर विश्व के सभी प्रमुख देशों ने भारत को बधाई दी। जिनमें अमेरिका, इज़राइल, जर्मनी, और फ्रांस आदि शामिल हैं। 


सबसे पहले अमेरिका के भारत में दूतावास ने 100 करोड़ वैक्सीन टीकाकरण लक्ष्य पर कहा कि भारत को आज COVID-19 वैक्सीन की अपनी 1 अरबवीं खुराक देने के लिए बधाई - वैश्विक महामारी से निपटने के लिए दुनिया के प्रयासों में एक प्रमुख मील का पत्थर। 

भारत में यूएस दूतावास

अमेरिका के सेक्रेटरी ऑफ स्टेट एंटनी ब्लिंकन ने भारत में अमेरिकी दूतावास को टैग करते हुए कहा कि हम भारत को COVID-19 वैक्सीन की एक अरब खुराक देने की असाधारण उपलब्धि के लिए बधाई देते हैं। उन्होंने आगे कहा कि मैं घरेलू स्तर पर COVID-19 से लड़ने में भारत की सफलताओं और हिंद-प्रशांत क्षेत्र और उससे भी आगे महामारी को समाप्त करने में मदद करने के प्रयासों की सराहना करता हूं।

भारत के भरोसेमंद दोस्त इजराइल के प्रधानमंत्री "नफ्ताली बेनेट" ने भारत के 100 करोड़ वैक्सीन टीकाकरण लक्ष्य पर कहा कि भारत के सफल COVID-19 टीकाकरण अभियान का नेतृत्व करने के लिए नरेंद्र मोदी को बधाई, जिन्होंने अब भारतीय लोगों को 1 बिलियन से अधिक टीके लगाए हैं। उन्होंने आगे कहा कि ये जीवन रक्षक टीके वैश्विक महामारी को हराने में हम सभी की मदद कर रहे हैं।

फ्रांस के राजदूत ने 100 करोड़ कोविड 19 टीकाकरण के लक्ष्य पर पीएम मोदी को ट्विटर पर टैग करते हुए लिखा कि इस ऐतिहासिक मील के पत्थर पर भारत को बधाई!  यह प्रभावशाली उपलब्धि दुनिया को महामारी पर काबू पाने के करीब लाती है।  मैं डॉक्टरों, नर्सों और सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स के प्रयासों को सलाम करता हूं।

फ्रांस के अलावा एक ओर यूरोपीय देश जर्मनी के भारत में राजदूत वाटलर जे लिंडर ने कहा कि भारत सरकार ने आज 100 करोड़ कोविड टीकाकरणों को पार करने की घोषणा की, यानी एक अरब टीकाकरण !!  सभी डॉक्टरों, नर्सों और स्वास्थ्य कर्मियों का कितना बड़ा प्रयास है!  इन अनगिनत नायकों और नायिकाओं के लिए मेरी गहरी प्रशंसा! 

भारत के पड़ोसी देश भूटान के पीएम ने ट्विटर पर लिखा कि यह बड़ी उपलब्धि न केवल आपके देश के लिए बल्कि दुनिया के लिए बड़ी उपलब्धि है। भूटान पीएम ने आगे कहा कि भारत ने COVID-19 टीकाकरण खुराक के एक बिलियन का आंकड़ा पार कर लिया है।  मैं भूटान के लोगों की ओर से भारत को बधाई देता हूं!

भारत के 100 करोड़ वैक्सीन टीकाकरण लक्ष्य को प्राप्त करने के अवसर पर विश्व स्वस्थ संगठन के अध्यक्ष ट्रेडोस ने कहा कि "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वैज्ञानिकों, स्वास्थ्यकर्मियों और भारत के लोगों को, COVID 19 से कमजोर आबादी की रक्षा करने और वैक्सीन इक्विटी लक्ष्यों को प्राप्त करने के आपके प्रयासों के लिए बधाई।" 

भारत की इस महान उपलब्धि के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का भी प्रमुख योगदान रहा है। जिसी के बदौलत आज हम दुनिया में कोविड 19 टीकाकरण अभियान में किसी भी देश से पीछे नहीं हैं। जबकि हम सभी लोकतांत्रिक देशों में सबसे आगे हैं और इसका श्रेय सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को ही जाता है। क्योंकि सीरम इंस्टीट्यूट वर्तमान में 20 करोड़ से ज्यादा  वैक्सीन का उत्पादन कर रहा है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कोविशील्ड नाम की वैक्सीन का उत्पादन कर रहा है। जिसको ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड संस्थान ने बनाया है। जिसका असली नाम एस्ट्राजेनेका वैक्सीन है। सीरम इंस्टीट्यूट को दुनिया का सबसे बड़ा टीका उत्पादन करने वाला संस्थान कहा जाता है। क्योंकि यह 1.3 बिलियन वैक्सीन हर वर्ष उत्पादित कर सकता है।

इसके अलावा भारत बायोटेक भी भारतीय टीकाकरण अभियान में अपना अनमोल योगदान दे रहा है। भारत बायोटेक भी वर्तमान में 4 करोड़ से अधिक वैक्सीन का उत्पादन कर रहा है। भारत बायोटेक के द्वारा उत्पादित वैक्सीन का नाम कोवैक्सिन है। जोकि एक भारतीय वैक्सीन है और इसको भारत बायोटेक ने ही बनाया है। 


Post a Comment

Previous Post Next Post