बांग्लादेश में 200 इस्लामिक कट्टरपंथियों ने इस्कॉन मंदिर में तोड़ फोड़ करी, 4 लोगों को मार डाला

बांग्लादेश में  इस्लामिक कट्टरपंथी किस तरह वहां की कानून व्यवस्था और सरकार पर हावी हैं। आप इस बात से समझ सकते हैं कि 200 कट्टर मुस्लिमों की भीड़ ने इस्कॉन मंदिर पर हमला कर दिया। मंदिर में तोड़ फोड़ की और मंदिर के ही चार भक्तों की बड़ी बेरहमी से हत्या कर दी।

इस्कॉन प्रशासन ने बताया कि  बांग्लादेश में शुक्रवार को नाओखली पर  इस्कॉन मंदिर और मंदिर के भक्तो पर एक हिंसक भीड़ ने हमला किया था। जिससे मंदिर को बहुत ज्यादा क्षति पहुंची है और हमारे भक्तों की हालत गंभीर बनी हुई है। हमने बांग्लादेश सरकार को कहा है कि जल्दी से जल्दी सभी हिन्दुओं की सुरक्षा की जाए और पीड़ितों को न्याय मिले।

इस्कॉन प्रशासन ने आगे बताया कि हमें बहुत ही दुःख हो रहा है । यह बात शेयर करते हुए कि 200 लोगों की कट्टरपंथी भीड़ ने हमारे इस्कॉन के सदस्य पार्थ दास की बड़ी क्रूरता से हत्या कर दी है। उनका मृत शरीर इस्कॉन मंदिर के सामने वाले तालाब से प्राप्त हुआ है। हमने बांग्लादेश सरकार जल्दी से जल्दी इस मामले पर कार्यवाहीं करने को कहा है।

इस्कॉन के डायरेक्टर ब्रजेंद्र नंदन दास ने बताया कि  जिन्होंने बांग्लादेश के नाओखली जगह पर बने इस्कॉन मंदिर पर हमला करने वाले न तो आतंकवादी थे और न ही गुंडे थे। इस्कॉन मंदिर पर हमला करने वाले मुस्लिम बहुल बांग्लादेशी कट्टरपंथी मुस्लिम थे। जिन्होंने मंदिर पर हमला किया और मन्दिर के तीन भक्तो को बड़े दर्दनाक तरीके से मार दिया। हम बांग्लादेश सरकार से कहा है कि जल्द से जल्द इन हमलों को रोकों तथा यह भी निश्चित करो कि आने वाले समय में ऐसा नहीं होगा।

पार्थ दास के बारे में इस्कॉन ने जानकारी दी है कि वह अभी केवल 25 वर्ष के ही थे। पार्थ दास बहुत उत्साही भक्त और पुरे समाज से जुड़े हुए थे। हम प्रार्थना करते हैं कि  भगवान कृष्णा उनको आश्रय देगें और उनके परिवार वालों व सभी भक्तों को इस दुःख के समय में शक्ति देना। 


प्रथा दास इस्कॉन के सदस्य व भक्त

बांग्लादेश में कुछ दिनों पहले एक झूठी अफवाह फैली थी या कट्टरपंथियों के द्वारा ही फैलाई गई हो। ताकी कोई हिंदू अपने पवित्र नवरात्रि त्यौहार को मना न सकें। यह भी एक पहलू हो सकता है। कुछ लोगों ने अपना उद्देश्य साधने के लिए एक अफवाह फैलाई कि किसी ने दुर्गा पंडाल में हनुमान की मूर्ति के चरणों में क़ुरान रख दी है। जिसके बाद वहां की मुस्लिम बहुल आबादी ने हिंदुओं के दुर्गा पूजा पंडालों और हिन्दू मंदिरों पर हमले शुरु कर दिए। जिन हमलों में बहुत सारे हिंदू मारे भी गए हैं।

बांग्लादेश सरकार के ग्रहमंत्री का कहना है कि बांग्लादेश में जिन कट्टरपंथियों ने हिंदुओं और उनके दुर्गा पंडालों पर हमले किए हैं। उनको कतई बख्शा नहीं जाएगा। जबकि बांग्लादेश में हिंदुओ के खिलाफ़ हिंसा होते आज 2 से 3 दिन होने जा रहे हैं। तब भी वहां की पुलिस और सरकार बांग्लादेशी कट्टरपंथियों के खिलाफ़ कुछ नहीं कर पा रही है। कल 15 अक्टुबर को इस्कॉन मंदिर पर हुआ हमला इसका प्रमाण है कि वहां के इस्लामिक कट्टरपंथी बांग्लादेश की सरकार की बात मानने को तैयार ही नहीं हैं। वो लगातार हिंदुओं और उनके मंदिरों पर हमले करते जा रहे हैं।

Post a Comment

Previous Post Next Post