बांग्लादेश में शासन कर रही शैख हसीना की पार्टी के लोग भी हिंदुओं पर हमला कर रहें हैं, राणा दास गुप्ता

बांग्लादेश  में हिंदुओं के खिलाफ़ हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है। अभी भी हिंदुओं के धार्मिक स्थलों व उनके घरों पर हमले लगातार हो रहें हैं। इसी के साथ हिंदू मंदिरों और  घरों को बांग्लादेश के इस्लामिक कट्टरपंथियों के द्वारा निशाना बनाएं जा रहे हैं। इन हमलों से ऐसा लग रहा है कि हमारे पडोसी देश के कट्टरपंथियों ने हिंदुओं को बांग्लादेश से खत्म कर देने की कसम खा रखी है/


बांग्लादेश में हिंदुओं के अधिकारों के लिए लड़ने वाली संस्था हिंदू एकता परिषद ने आज ट्विटर पर एक वीडियो व कुछ तस्वीरें शेयर की हैं।  जिसमें बांग्लादेश के हिंदू एकता परिषद ने कुछ तस्वीरें  शेयर करते हुए कहा है कि  17 अक्टूबर 2021 को भी बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलाफ़ हिंसा हो रही है। उन्होंने ने अपने ट्वीट में लिखा है कि आज भी हिंदुओं पर बांग्लादेश के पीरगंज के रांगपुर में बड़े पैमाने पर हमले हुए हैं। अगर इसी तरह से पूरे बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमले होते रहें। तो बांग्लादेश में हिंदुओं का बच जाना बड़ा ही मुश्किल है।


हिंदू एकता परिषद ने एक वीडियो भी ट्विटर पर साझा किया। जिससे युनाइटेड नेशंस और संयुक्त राष्ट्र मानव आधिरकार परिषद , ओआईसी (OIC)  की आंखे खुल जाएं। क्योंकि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार और इस्लामी सहयोग संगठन को हमारे कश्मीर में मानवाधिकार हनन होते दिख जातें हैं। लेकिन बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टर लोगों के लगातार हमले हों रहें हैं। बांग्लादेश के इस्लामिक कट्टरपंथियों के  हिंदुओं को लगातार हमले कर रहे हैं।


हिंदू एकता परिषद ने अपने वीडियो में आज 18 अक्टूबर 2021 की घटना के बारे में जानकारी देते हुए कहा है कि रंगपुर में इस समय स्थिति विकट है।  हिंदुओं के घर और मंदिर जला दिए गए हैं।  रंगपुर जिले के पीरगंज उपजिला के एक हिंदू गांव में मुस्लिम भीड़ ने आग लगा दी है। 


इसके साथ ही बांग्लादेश में हिंदु, बौद्ध और ईसाई धर्म की एकता परिषद के सेक्रेटरी राणा दास गुप्ता ने हिंसा पर  बहुत ही खौफनाक बात बताई है। उन्होंने मीडिया को बताते हुए कहा है कि यह बड़ा ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि बांग्लादेश की सत्ता पर काबिज सत्ताधारी पार्टी अवामी लीग के अधिकतर के जमीनी नेता भी हिंदुओं  पर हमले करवा रहें हैं।

    

हिंदू, बुद्ध और ईसाई एकता परिषद के सेक्रेटरी जनरल राणा दास गुप्ता का कहना है कि  हिंदुओं पर हो रहे सांप्रदायिक हमलों को एकतरफा होने से से खारिज नहीं किया जा सकता है। हमें विश्वास है कि जो घटनाएं घटित हुई हैं। वह पहले से ही सुनियोजित हैं।

 

बांग्लादेश में चांदपुर के हाजीगंज जिले में रहने वाले एक हिंदू परिवार की सभी महिलाओ, और एक 10 वर्ष की लड़की के साथ सामूहिक रैप किया गया था। जिस कारण 10 वर्ष की लड़की का अत्याधिक खून बह जानें के कारण उसकी मृत्यु हो थी। इसी घटना के बारे में जिक्र करते हुए हिंदू एकता परिषद ने कहा है कि आखिरकार 10 साल की बच्ची के साथ रेप की खबर प्रकाशित हो गई। अब तक बांग्लादेश में किसी भी मीडिया ने पूरे हिंदू परिवार के साथ बलात्कार की कहानी को कवर करने की हिम्मत नहीं की है, जिसके कारण इस घटना को अफवाह के रूप में कवर करने का प्रयास किया गया है। पहली बार किसी समाचार चैनल ने साहस दिखाया है।

Post a Comment

Previous Post Next Post