बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान सूर्य के पड़ोसी बुध ग्रह के पास पहुंचा ,बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान के बारे में संपूर्ण जानकारी

बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ESA) और जापान की अंतरिक्ष एजेंसी "एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी" का संयुक्त मिशन था। जो हमारे सौर मंडल के बुध ग्रह के अध्ययन के लिए विकसित किया गया था। इसका बुध ग्रह पर परिचालन काल मात्र 1 वर्ष का होगा। 



इसको अंतरिक्ष में 20 अक्टूबर 2018 को एरियन 5 रॉकेट से प्रक्षेपित किया गया था। अब 2 वर्ष बाद बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान अपनी गंतव्य वाले स्थल पर पहुंच चुका है। इसमें दो सैटालाइट रखें हुए हैं। जिसमें पहला Mercury Planetary Orbiter  और दूसरा Mio (मर्करी मैग्नेटोस्फेरिक ऑर्बिटर, MMO) हैं। जिनमें मर्करी प्लेनेटरी ऑर्बिटर का भर 1230 किलोग्राम (2710 lb) है और दूसरे सैटलाइट मर्करी मैग्नेटोस्फेरिक ऑर्बिटर का कुल भार 255 किलोग्राम (562 lb) है। मर्करी प्लेनेटरी ऑर्बिटर की कुल शक्ति 150 वॉट है और दूसरे सैटलाइट मर्करी मैग्नेटोस्फेरिक ऑर्बिटर की ताकत 90 वॉट है।

बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान का प्रमुख उद्देश्य "बुध  अवलोकन और अन्वेषण" (Mercury Observation and Exploration ) है। यह यान बुध ग्रह की कक्षा में 2025 में पहुंचेगा। इससे पहले यह बुध ग्रह के करीब 6 चक्कर लगायेगा। 

बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान में 11 उपकरणों का एक पेलोड है, जिसमें कैमरा, स्पेक्ट्रोमीटर, रेडियोमीटर, लेजर अल्टीमीटर, मैग्नेटोमीटर, पार्टिकल एनालाइजर, Ka-बैंड ट्रांसपोंडर और एक्सेलेरोमीटर आदि शामिल हैं। इसमें मरकरी प्लैनेटरी ऑर्बिटर (एमपीओ) हर साल 1550 गीगा बाइट्स का डाटा धरती पर भेजेगा और जबकि मरकरी मैग्नेटोस्फेरिक ऑर्बिटर (Mio) 160 गीगा बाइट्स का डाटा भेजेगा।

जिसके बारे में यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने दुनिया को विस्तार से जानकारी दी है।



यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने बेपीकोलंबो स्पेसक्राफ्ट के बारे में बताया कि बेपीकोलंबो (BepiColombo) स्पेसक्राफ्ट बुध ग्रह से 199 किलोमीटर की दूरी से गुजरा।

मुख्य खबर

1.बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान के प्रमुख तथ्य।

2.बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान के बारे मे यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने बताया।

3. ईसा के ऑपरेशन विभाग का बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान के बारे में जानकारी।

4. अंतरिक्ष यान सूरज से 5 करोड़ 60 लाख किलोमीटर दूर स्थित है।

5. अंतरिक्ष यान में गर्मी से बचाने के प्रयुक्त डिजाईन।

6.बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान का मुख्य केंद्र बिंदु तक पहुंचना। 


यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के ऑपरेशन विभाग ने बेपीकोलंबो स्पेसक्राफ्ट के बारे में जानकारी देते हुए बताया है कि BepiColombo स्पेसक्राफ्ट ने अपनी अभी तक की उड़ान त्रुटि विहीन पूरी की है और अब वह बुध ग्रह के पास उड़ने के बाद BepiColombo स्पेसक्राफ्ट को गर्मी का अहसास होने लगा है।

ईसा के ऑपरेशन विभाग अनुसार , यह 2 अक्टूबर सुबह को 1 बजकर 34 मिनिट  CEST गर्म, यह गर्म चट्टानी और हमारे आंतरिक बुध ग्रह से सिर्फ 199 किलोमीटर की दूरी से गुजरा है। उन्होंने कहा कि यान को इस सटीक प्रक्षेपवक्र में लाने के लिए महीनों के कार्यों के परिणाम हैं।

ईसा की एल्सा मॉन्टैगन, स्पेसक्राफ्ट ऑपरेशंस मैनेजर ने बताया है कि  बेपीकोलंबो स्पेसक्राफ्ट अभी तक त्रुटिविहीन और अंतरिक्ष यान के दृष्टिकोण से सब कुछ सही हो रहा था। जैसे कि हम लोगों को अपेक्षित था कि BepiColombo स्पेसक्राफ्ट गर्मी को महसूस करने लगा है।

स्पेसक्राफ्ट मैनेजर ने आगे बताया है कि अंतरिक्ष यान वर्तमान समय में हमारे सौर मंडल के केंद्र की ओर जा रहा  है और जो इस समय हमारे सूर्य से 5.6 करोड़ किलोमीटर (56 मिलियन किलोमीटर) दूरी पर स्थित है। वर्तमान समय में अंतरिक्ष यान लगभग 110 डिग्री सेंटीग्रेड के तापमान का अनुभव  कर रहा है, जोकि  BepiColombo स्पेसक्राफ्ट के लिए एक दम बिल्कुल नया है। बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान को सूरज की गर्मी से बचाने के लिए एक खास तरह की डिजाइन का उपयोग किया गया है। लेकिन अत्याधिक गर्मी में यह डिजाइन अंतरिक्ष यान के लिए कार्य नही करेगी। यह केवल  अंतरिक्ष को एक के नियत प्रक्षेपवक्र (Trajectory) में ही बचा सकेगी।


यूरोपियन स्पेस एजेंसी ने बताया कि बेपीकोलंबो अंतरिक्ष यान हमारे सौर मंडल के दूसरे सबसे गर्म ग्रह बुध से 199 किलोमीटर की दूरी से गुजरा और उसने इस ग्रह के एक हिस्से की तस्वीर भी ली है। इस तस्वीर में साफ साफ देखा जा सकता है कि बुध ग्रह का यह हिस्सा सूर्य के प्रकाश से प्रकाशमान है। ईसा ने आगे बताया है कि बुध ग्रह की कक्षा भी बड़े पैमाने पर प्लाज्मा और तप्त आग के उद्दगार देखें जा सकतें हैं। हालाकि बेपीकोलंबो ने पूर्ण गर्मी का सामना नहीं किया है और वह बुध के ठंडे अंधेरे भाग से उड़कर निकल गया।

अंतरिक्ष यान बेपीकोलंबो का मुख्य केंद्र बिंदु "बुध ग्रह" था और अब ईसा इससे बुध ग्रह के बारे पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगी। बुध ग्रह अंतरिक्ष यान बेपीकोलंबो का एक नया घर बन गया है।

Post a Comment

Previous Post Next Post