अब भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार विदेशी व्यक्तियों से लेकर एक गरीब संतरा बेचने वाले व्यक्ति को भी मिलते हैं, विस्तार से जानें 2020 के पदम पुरस्कार के बारे में,

पदम पुरस्कार भिभिन्न क्षेत्रों में कुशल लोगों को दिए जाते हैं। जैसेकि कला, खेल, संस्कृति, विज्ञान, साहित्य, सामाजिक कार्य, व्यापार, शिक्षा, नागरीक सेवा और चिकित्सा आदि महत्व पूर्ण क्षेत्रों में कुशल लोगों को पदम पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं। यह भारत सर्वोच्च नागरिक सम्मान में से एक हैं। इन पुरस्कारों के विजेताओं को भारत के राष्ट्रपति खुद राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह प्रदान करते हैं। 




आज दिल्ली में 8 नवंबर 2021 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पिछले वर्ष 2020 के पदम पुरस्कार विजेताओं को सम्मानित किया और उनको पदम पुरस्कार वितरण किए। पुरस्कार वितरण समारोह राष्ट्रपति भवन में आयोजित किया किया गया था। 

जिसमें उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू , पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन और विदेश मंत्री एस जयशंकर भी शामिल हुए थे। पुरस्कार वितरण समारोह के बाद एक सामूहिक फोटोसेशन हुआ।

आज भारत के राष्ट्रपति द्वारा कुल 119 पदम पुरस्कार विजेताओं को वितरित किए गए हैं। हालाकि इन 119 पदम पुरस्कारों में पदम विभूषण और पदमश्री भी शामिल हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 7 पदम विभूषण, 10 पद्म भूषण और 102 पद्मश्री उक्त विजेताओं को प्रदान किए हैं और उनका सम्मान किया है। 

इन पुरस्कारों के विजेताओं में कंगना रनौत(कला) पीवी सिंधू(खेल) रानी रामपा (खेल), एयर मार्शल डॉ पदमा बंदोपाध्याय (रक्षा रिटायर) और एसपी बालासुब्रमण्यम (मरणोपरांत) प्राप्त हुए हैं।

कला के क्षेत्र में 

कंगना रनौत (पद्मश्री पुरस्कार) एक बॉलिवुड की जानी मानी अभिनेत्री हैं। जिन्होंने अपने अभिनय से दर्शकों पर एक अमिट छाप छोड़ी है। कंगना रनौत के अलावा कला के क्षेत्र में अदनाम सामी, करन जौहर और एकता कपूर को पदम पुरस्कार प्राप्त हुए हैं।

खेल के क्षेत्र में

खेल के क्षेत्र में पद्म पुरस्कार रानी रामपाल और स्टार बैडमिंटन महिला खिलाड़ी पीवी सिंधू को प्राप्त हुए हैं। रानी रामपाल ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रहीं हैं। जिन्होंने ओलंपिक में भारत का मान बढ़ाया था। पीवी सिंधू भारत की महिला बैडमिंटन स्टार खिलाड़ी हैं। जिन्होंने टोक्यो ओलंपिक में बैडमिंटन में रजत पदक जीता था। उन पर हर भारतीय को गर्व है। 

चिकित्सा व विज्ञान के क्षेत्र में

भारत की पहली महिला एयर मार्शल डॉ पदमा बंदोपाध्याय (रिटायर) हैं। जिनको चिकित्सा के क्षेत्र में पद्मश्री पुरस्कार प्राप्त हुआ है। इनके अलावा चिकित्सा के क्षेत्र में प्रमुख हस्ती डॉ रमन गंगाखेडकर को भी पद्मश्री पुरस्कार प्राप्त हुआ है। डॉ रमन गंगाखेडकर ICMR के पूर्व प्रमुख वैज्ञानिक भी रह चुके हैं।

सार्वजनिक सेवा

लोगों की सेवा करने के लिए संतरा विक्रेता हरेकला हजब्बा को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उनको यह गांव में स्कूल खोलने के कारण मिला है। इसने अलावा जितेंद्र सिंह शुंटी को पद्मश्री पुरस्कार प्राप्त हुआ है। उनको यह पुरस्कार COVID19 महामारी के दौरान हजारों शवों का अंतिम संस्कार करने के कारण मिला है। इसके अतिरिक्त उन्होंने महामारी के दौरान हजारों लोगों की सहायता भी की थी। वह शहीद भगत सिंह सेवा दल के संस्थापक भी हैं।

राजनीतिक क्षेत्र में

राजनीतिक क्षेत्र से दो प्रमुख लोगों को पदम विभूषण पुरस्कार प्राप्त हुए हैं। जो पीएम मोदी की पहली सरकार में प्रमुख मंत्री भी रह चुके हैं। जिनमें अरुण जेटली और सुषमा स्वराज हैं। ये दोनों महान आत्माएं अब इस दुनिया में नहीं हैं। इसलिए इनको मरणोपरांत पद्मभूषण अवॉर्ड प्राप्त हुआ है।

पद्म विभूषण पुरस्कार

पद्म विभूषण पुरस्कार कुल 7 वितरित किए गए हैं और जिनमें 2 विदेशी व्यक्तियों को प्रदान किए गए हैं। एक जापान के पूर्व पीएम शिंजो अबे को पब्लिक अफेयर और यूएस के श्री नरिंदर सिंह कपनी को साइंस एंड इंजीनियरिंग के लिए दिया गया है।

पद्म भूषण पुरस्कार

पद्म भूषण पुरस्कार कुल 10 विजेताओं को ही मिले हैं। जो इस प्रकार हैं।

पद्म श्री पुरस्कार

पद्म श्री कुल 102 प्रदान किए गए हैं। जो निम्नलिखित हैं।

Post a Comment

Previous Post Next Post