सारा अली खान के केदार नाथ मंदिर में पूजा पाठ और तिलक लगाने पर, भारत के कटरपंथी भड़क उठे।

जान्हवी कपूर और सारा अली खान इन दिनों उत्तराखंड के केदरनाथ में हैं और जहां उन्होनें भगवान शिव के दर्शन भी किए हैं। सारा अली खान ने अपनी साथी जाह्नवी कपूर के साथ केदारनाथ की कुछ तस्वीरों को अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर की हैं। जिन तस्वीरों में दोनों अभिनेत्रियां बहुत ही खुश और प्रकृति का आनंद उठा रहीं हैं।

खासकर सारा अली खान भगवान शिव के केदारनाथ में पहुंच कर बहुत ज्यादा खुश और आनंदित प्रतीत हो रहीं हैं। हालाकी केदारनाथ में इस समय भी बहुत ज्यादा ठंड है। ठंड से बचाव के लिए दोनों दोस्तों ने बेहद खूबसूरत जैकेट्स पहन रखी थी और गले में स्कार्फ लपेटा हुआ है। ढेर सारे कपड़े पहनें होने के कारण जान्हवी कपूर और सारा अली खान हद से ज्यादा मोटी लग रही हैं। 

सारा अली खान ने जान्हवी कपूर के साथ भगवान केदारनाथ के मन्दिर के सामने खड़े होकर अपनी प्यारी सी तस्वीरें ली और फिर दोनों अभिनेत्रियों ने केदारनाथ में मौजूद दूसरे पुजा स्थलों के भी बड़े प्रेम सद्भाव के साथ दर्शन किए। केदारनाथ के प्रांगण में मौजूद भगवान शिव और माता पार्वती के दर्शन किए। 

सैफ अली खान और उनकी पूर्व पत्नी अमरीता सिंह की बेटी सारा अली खान केदार नाथ के बारे में बहुत ही उत्सुक दिख रही हैं। जहां उन्होंने जाह्नवी कपूर के साथ साथ अपनी अकेले भी कुछ तस्वीरें ली हैं। केदारनाथ मंदिर के सामने बैठकर सारा अली खान ने बहुत ही लाजवाब तस्वीर ली और उन्होंने भगवान शिव के मन्दिर के पिछे स्थित शिला के साथ भी एक सेल्फी ली। यह वहीं शिला है। जो केदारनाथ के मन्दिर को भयंकर बाढ़ से भी महफूज रखती है। जिसका सही परिक्षण 2013 की उत्तराखंड त्रासदी में हो गया था। इस शिला ने भगवान शिव के मन्दिर को जरा सी भी खरोंच तक नहीं पहुंचने दी।

अब सारा अली खान भगवान शिव के दर्शन करें और भारत के कट्टरपंथी कुछ न कहें। ऐसा कभी कुछ हुआ है। सारा अली खान के केदारनाथ मंदिर दर्शन और बड़े से तिलक को देखकर भारत के कट्टरपंथियों ने उन्हें ट्रोल किया। जिसमें बहुत से कट्टरपंथी लोगों ने सारा अली खान को भद्दी भद्दी गालियां भी दी हैं।

एक कट्टरपंथी मोहम्द संवार ने सारा अली खान को बहुत ही अपमान जनक और भद्दी भद्दी गालियां बकी थी। उसने सारा अली खान को इस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया है कि मैं आपको लिख कर नहीं बता सकता हूं। उसने कहा कि कभी दरगाह गईं नहीं होगी और मंदिर बड़ी जल्दी पहुंच गई। फिर इस कट्टरपंथी ने दूसरे कट्टरपंथी लोगों की तरह ही कहा कि तुम इस्लामा के नाम पर धब्बा हो। अल्लाह का खौफ रखो।

दूसरे कट्टरपंथी मुस्ताक ने सारा अली खान को नसीहत देते हुए कहा कि जरा खुदा से खोफ करो। इस तरह की मक्कारियों से काम नहीं चलेगा। या तो इस्लाम से सीखों। अन्यथा इस्लाम का नाम मत लो। 

एक बुशरा खान नाम के कट्टरपंथी ने सारा अली खान के बीच में नुसरत जहां को ले आया। उसने सारा के पोस्ट पर कमेंट किया कि तुम्हारा वहीं हाल होगा। जैसा नुसरत जहां का हुआ है। इस व्यक्ति ने एक औरत का भी लिहाज नहीं रखा और सीधे सारा अली खान को रण्डी जैसे अपमान जनक शब्द का प्रयोग किया। 

इसी तरह से दुसरे कट्टरपंथियों ने सारा अली खान को केदारनाथ मंदिर में जानें और वहां पुजा पाठ करने के लिए अश्लील गालियां दी। यहां यह बात एकदम फिट बैठती है कि धर्मनिरपेक्षता सिर्फ और सिर्फ हिंदुओं के लिए हैं और हिंदु इसे बखूबी निभाता भी है। जब एक हिंदु मुस्लिम समुदाय की मजार या मस्जिद पर जाता है। तब कोई भी हिंदू कुछ नहीं कहता है। लेकिन मुस्लिम समाज के कट्टरपंथी इन सब बातों को पचा नहीं पातें हैं। उनके अनुसार , एक मुस्लिम मंदिर नही जा सकता है और वह दूसरे गैर मुस्लिम त्योहारों में शामिल नहीं हो सकता है। अगर वह चला जाता है तो उसका धर्म खतरे में आ जाता था या वह अपने धर्म में आस्था नहीं रखता है। इस तरह के लोगों की यह सोच बड़ी ही खतरनाक है।

Post a Comment

Previous Post Next Post