आतंकी संगठन ISIS K की पाकिस्तान को गंभीर चेतावनी, पाकिस्तान की बर्बादी ISIS K का पहला टारगेट

अफगानिस्तान की हालत जैसे जैसे गंभीर होती जा रही हैं। वहां दुनिया के खतरनाक आतंकी संगठनों के पनपने का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। अफगानिस्तान के बुरे हालातों का फायदा ज्यादातर इस्लामिक स्टेट की खुरासान शाखा उठा रहीं है। जो धीरे धीरे अफगानिस्तान में मज़बूत बनते जा रहे हैं। जो अभी केवल अफगानिस्तान की समस्या ही है। लेकिन जल्दी यह समस्या दुनिया की समस्या बनने जा रही है।




इसी ISISK ने पाकिस्तान को चेतावनी दी है कि उसका पहला उद्देश्य पाकिस्तान को पूरी तरह से बर्बाद करना है। जिसके लिए इस्लामिक स्टेट खुरासान तर्क दे रहा है कि आज अफगानिस्तान की जो हालत है। उसके लिए पूरी तरह से पाकिस्तान जिम्मेदार है। 

 

इसी बात को लेकर ISIS-K आतंकी संगठन ने पाकिस्तान पर निशाना साधा कि जब अफगानिस्तान का 80% क्षेत्रफल पाकिस्तान के नियंत्रण में था। तब पाकिस्तान ने पूर्ण इस्लामिक शरिया क़ानून क्यों नहीं लागू किया था। पाकिस्तान इस्लामिक स्टेट खुरासान का पहला निशाना ज्यादा मुश्किल नहीं होगा। क्योंकि पाकिस्तान में कट्टरपंथ बड़ी तेज़ी से फैल रहा है। जिसका फायदा ISIS-K जरूर प्राप्त करेगा। 


पाकिस्तान व अफगानिस्तान में पूर्ण शरीया कानून


ISIS-K तालीबान से खतरनाक और बेरहम आतंकी संगठन है। जिसका सीधा से उदेश्य है कि पूरी दुनिया में केवल शरिया कानून ही लागू करना है। लेकिन यदि कोई कुरान, पैगंबर मोहम्मद और इस्लाम का अपमान करता है। तो उसे मार दिया जायेगा।


जिसका पहला निशाना पाकिस्तान और अफगानिस्तान बनने वाले हैं। इन दोनों देशों ISIS-K पूरी तरह से शरिया क़ानून लागू करना चाहता है। 


इस्लामिक स्टेट खुरासान के एक सदस्य नजीफुल्लाह ने कहा है कि हम अफगानिस्तान और पाकिस्तान में पूरी तरह से शरिया कानून लागू करना चाहतें हैं। हम उसी तरह से रहना चाहते हैं। जिस प्रकार से पैगम्बर मुहम्मद रह रहें थे और जिस तरह से वह कपड़े पहना करते थे। मुस्लिम धर्म में एक परिधान - संबंधी नियमावली है। जिसको हिजाब के नाम से जानते हैं। हम पाकिस्तान में सभी महिलाओं को पूरी तरह से ढका हुआ देखना चाहते हैं। अर्थात् सभी पाकिस्तानी महिलाओं को हिजाब पहनना आवश्यक हो। नजीबुल्लाह ने आगे कहा कि हम इस समय लड़ने के लिए ज्यादा कुछ नहीं कर पा रहे हैं। लेकिन अब वह पाकिस्तान से लड़ने जा रहें हैं। हम पाकिस्तान को पूरी तरह बर्बाद और तहस नहस देखना चाहते हैं।


इस्लामिक स्टेट खुरासान भारत के लिए भी वहुत ज्यादा खतरा है। जिसने हाल में ही गैर हिंदुओं को कश्मीर घाटी में निशाना बनाकर मारने का दावा किया। 

पीएम मोदी ने कट्टरता पर चेताया

पीएम मोदी ने शंघाई कॉपरेशन संगठन में कहा था कि जिस तरह से कट्टरता में वृद्धि हो रही है। वो सभी शंघाई कॉपरेशन संगठन के सदस्य देशों के लिए सबसे बड़ा खतरा है। उन्होंने सभी सदस्य देशों को बढ़ती कट्टरता से सावधान व इसको रोकने के उपाय खोजने चाहिए।


भारत के कहना भी एकदम ठीक है। क्योंकि पाकिस्तान और अफगानिस्तान में ISISK कट्टरपंथी इस्लामी लोगों का सहारा ले रहा है। इन्हीं कट्टरपंथियों के सहारे इस्लामिक स्टेट खुरासान पाकिस्तान सरकार को हटा सकता है। जबकि अफगानिस्तान में तालीबान की पकड़ कमजोर होती जा रही है और ISISK दिनों दिन मज़बूत बनता जा रहा था।

Post a Comment

Previous Post Next Post