धरती को अपना एक ब्लैक बॉक्स मिलने जा रहा, जो पृथ्वी की हर तबाही का एक सेकंड भी रिकॉर्ड करेगा।

धरती को अपना एक ब्लैक बॉक्स मिलने जा रहा है, जो धरती पर मानव की हर हरकत को रिकॉर्ड करेगा। यह ब्लैक बॉक्स मानव सभ्यता के विनाश के कारणों को भविष्य की सभ्यताओं के लिए रिकॉर्ड करके रखेगा। जिससे धरती पर उत्पन्न होने वाली नई सभ्यताओं को मानव की गलतियों का आंकलन हो सकेगा।


हेलीकॉप्टर और हवाई जहाज की भांति धरती का ब्लैक बॉक्स

जिस तरह से हेलीकॉप्टर और हवाई जहाज में एक ब्लैक बॉक्स लगा होता है, जो  हेलीकॉप्टर के महत्वपूर्ण मापदंडो जैसे ऊंचाई, एयरस्पीड, वायु दबाव, कॉकपिट वार्तालाप और ऑटोपायलट स्थिति, रोल, पिच को रिकॉर्ड रिकॉर्ड करता है। हालाकि ज्यादातर हवाई जहाजों में दो ब्लैक बॉक्स लगें होते हैं, जिम्मे एक कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर (सीवीआर) और दूसरा फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर (एफडीआर) होता है। जब किसी हवाई जहाज की दुर्घटना होती है तब इसी ब्लैक बॉक्स की सहायता से जांचकर्ता दुर्घटना के कारणों का पता लगाता है। वैसे ब्लैक बॉक्स मात्र एक हार्ड डिस्क या मेमोरी कार्ड ही होता है, जो हर जानकारी को अपने में समाहित करता रहता है। 

अब दुनिया के वैज्ञानिकों ने धरती के लिए एक ब्लैक बॉक्स बनाने का निर्णय लिया है, जो धरती पर होने वाली हर घटना को अपने अंदर रिकॉर्ड करेगा। इसको बनाने वाले वैज्ञानिकों का कहना है कि जिस तरह आज दुनिया जलवायु परिवर्तन से जूझ रहीं हैं और हो सकता है कि दुनिया का विनाश जलवायु परिवर्तन के कारण हो जाए। या धरती पर तीसरा विश्व युद्ध शुरू हो जाएं, जिसमें परमाणु शक्ति संपन्न देश एक दुसरे के ऊपर परमाणु हथियारों से हमला कर देते हैं। यह दो कारण मानव सभ्यता के विनाश के प्रमुख कारण हो सकते हैं। 

लेकिन वैज्ञानिकों ने मानव सभ्यता के 50 से 60 वर्षों के जीवन को रिकॉर्ड करने के लिए एक ब्लैक बॉक्स बनाने का निश्चय किया, जो पुरी दुनिया में घटित होने वाली सभी घटनाओं को रिकॉर्ड करके रखेगा। यह ब्लैक बॉक्स इंटरनेट के माध्यम से पूरे विश्व से जुड़ा होगा, जिसमें धरती पर मानव जीवन को बचाने के प्रयास या मानव सभ्यता के विनाश के कारण रिकार्ड होगें।

धरती के ब्लैक बॉक्स का उद्देश्य

धरती के ब्लैक बॉक्स को महत्वपूर्ण उद्देश्य है। यह मानव सभ्यता का भविष्य की सभ्यताओ के लिए आइना होगा। यह धरती की भविष्य की सभ्यताओ को बतायेगा कि मानव सभ्यता ने क्या गलतियां की थी, जिससे उनकी सभ्यता धरती से खत्म हो गई। 

ऑस्ट्रेलिया के तस्मानिया में धरती का ब्लैक बॉक्स

धरती का ब्लैक बॉक्स अभी निर्माण की प्रक्रिया से गुजर रहा है लेकिन इसने रिकॉर्डिंग करना शुरू कर दी है। जिसके आधे हिस्से को धरती के अंदर रखा जायेगा और आधा हिस्सा धरती के ऊपर रखा जाएगा। इसको ऑस्ट्रेलिया के द्वीप Tasmania में बनाया जा रहा है, इसको यहां बनाने का कारण भी वैज्ञानिकों ने बताया है। उन्होंने कहा है कि यह क्षेत्र तीसरे विश्व युद्ध से दूर रहेगा और यह हिंद महासागर , प्रशांत महासागर और अनटारटीका के बेहद करीब होगा। जिससे यह आसानी से हर घटना को रिकॉर्ड करके रख सकेगा।

धरती का ब्लैक बॉक्स यह भी बतायेगा कि धरती का कोन सा देश समुद्र में पहले डूबा या कोन सा देश परमाणु हथियारों से पहले खत्म हुआ। इसकी सबसे बड़ी बात यह होंगी कि यह उन देशों का रिकॉर्ड रखेगा, जो  धरती की समस्याओं के लिए जिम्मेदार हैं।


हालाकि वैज्ञानिकों ने यह नहीं बताया है कि जब धरती पर नई सभ्यता का उदय होगा। तो उसे इंटरनेट का ज्ञान होगा या वह मानव से ज्यादा बुद्धिमान होगी। लेकिन ब्लैक बॉक्स बनाने वाले वैज्ञानिकों ने यह सब बातें धरती की भविष्य की सभ्यताओं के ऊपर छोड़ दिया है। अगर यह बुद्धिमान सभ्यता को प्राप्त होता है तो वह मानव की गलतियों से सीख सकती है। जिससे वह अपने विनाश को रोक सकें।

Post a Comment

Previous Post Next Post