अमेरिका के फ्लोरिडा में ईसाई से मुस्लिम बने एक व्यक्ति ने 13 वर्षीय लड़के को धार्मिक अनादर के कारण मार डाला।

अमेरिका के फ्लोरिडा में ईसाई से मुस्लिम बने एक व्यक्ति ने 13 वर्षीय लड़के को मार दिया। इस ईसाई व्यक्ति ने हाल ही में इस्लाम धर्म अपनाया था।  अमेरिकन मीडिया के अनुसार, यह एक स्वेत आईएसआईएस आतंकी और धर्मांतरित अमेरिकन मुस्लिम है। जिसने 2018 में एक मासूम लड़के की बड़ी क्रूरता से हत्या कर दी और फ्लोरिडा में बाप बेटे को चाकू मारकर घायल कर दिया था। इसे 13 जनवरी 2022 को दोनों अपराधों में सजा सुनाई गई है।

इस्लाम मे धर्मांतरित जॉनसन हत्या के आरोप में जेल भेज गया।

इस व्यक्ति का नाम कोरी जॉनसन है। जिसने अपनी जन्म दिन की पार्टी में एक 13 वर्षीय जोबन्नी सिएरा ब्रांड की हत्या कर दी थी। तब इसकी उम्र मात्र 17 बर्ष की थी। इसी व्यक्ति ने 2018 में फ्लोरिडा में दो अन्य लोगों 43 वर्षीय एलेन  साइमन और उनके 13 वर्षीय बेटे डेन ब्रैनक्राफ्ट को चाकू मार कर घायल कर दिया। अपने इस घृणित कार्य पर ईसाई से मुस्लिम बने जॉनसन ने कहा कि इन लोगों ने मेरे धर्म के उच्च लोगों के खिलाफ़ बोला और मेरे धार्मिक विचारों का अनादर किया है।

यह भी पढ़ें; भारत को 2022 में 18 लाख करोड़ के विदेशी कर्ज चुकाना पड़ेगा।

21 वर्षीय कोरी जॉनसन को अमेरीकी स्थानीय कोर्ट ने नवंबर 2020 में एक लडके की हत्या और दो लोगों को चाकू मारने का दोषी पाया। पाम बीच काउंटी के न्यायाधीश चेरिल काराकुजो ने 13 जनवरी 2022 को जॉनसन को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। 

आईएसआईएस का आतंकी जॉनसन एडोल्फ हिटलर, स्टालिन और किम जोंग उन को अपना आदर्श मानता है। उसका कहना है कि एडोल्फ हिटलर ने यहूदियों का संहार किया।  इसके अलावा यहूदियों और समलेगिकों के खिलाफ़ बेहद आपत्तिजनक शब्द कहें हैं।

जॉनसन ने पुलिस को अपने बयान में बताया कि उसने अपने जन्म दिन के दौरान लड़के और दूसरे लोगों को मारने के लिए अपने मोबाइल पर कुरान पढ़ी। ताकि वह उनको मारने के लिए हिम्मत जुटा सकें। पुलिस को आगे बताया कि वह आईएसआईएस आतंकी संगठन के विचारों से प्रभावित है। जिसके कारण वह एक आतंकी बन बैठा और उसके अंदर कट्टरता जाग उठी।

जॉनसन एक कुख्यात आतंकी बन गया था। जिसका प्रमाण इंग्लैंड के एक कैथोलिक स्कूल को धमकी है। जिसके बाद वहां के अधिकारियों ने बताया कि इस आतंकी की धमकियों के कारण 100 से अधिक बच्चों ने स्कूल से नाम ही कटा लिया था।

Post a Comment

Previous Post Next Post