भारत में तेज गति से स्टार्टअप यूनिकॉर्न बन रहें, भारत में 2023 के शुरुआत में 100 स्टार्टअप 1 बिलियन डॉलर से अधिक होगें।

लोग कहते हैं कि भारत में 2015 के बाद कोर बदलाव नहीं आया है। लेकिन यह सच नहीं है। आज भारत विश्व का स्टार्टअप हब बन रहा है। यंहा तक भारत को 200 वर्षों गुलाम बनाये रखने वाले ब्रिटेन को पीछे छोड़ दिया। अभी हाल ही में हुरून ने यूनिकॉर्न को लेकर एक इंडेक्स जारी किया है। जिसमें भारत के छोटे छोटे स्टार्टअप बहुत ही तीव्र गति से यूनिकॉर्न में बदल रहे हैं। 

हुरून ग्लोबल यूनिकॉर्न इंडेक्स 2021

हुरून ग्लोबल यूनिकॉर्न इंडेक्स 2021

हुरून ग्लोबल यूनिकॉर्न इंडेक्स 2021 के अनुसार, भारत ने यूरोपीय देश ब्रिटेन को पीछे छोड़ते हुए यूनिकॉर्न के मामले में विश्व में तीसरा स्थान हासिल कर लिया। भारत के इस वर्ष 2022 में कुल यूनिकॉर्न 54 हो चूकें हैं। जबकि पीछले वर्ष यह मात्र 23 ही यूनिकॉर्न थे। अर्थात् भारत में एक ही वर्ष में 33 यूनिकॉर्न बन गए। जोकि भारत के युवाओं के अंदर स्टार्टअप के प्रति जागरूकता और कुछ कर गुजरने का हौसला दिखाता। 

यह भी पढ़ें; दुनिया में पहली बार अंतरिक्ष में टेलीस्कोप स्थापित करने का विचार देने वाले वैज्ञानिक

अगर हम ब्रिटेन की बात करें तो उसके पिछले साल 24 स्टार्टअप यूनिकॉर्न बने थे। जबकि इस वर्ष 2022 में 15 यूनिकॉर्न की वृद्धि के साथ 39 यूनिकॉर्न की संख्या हों गई।

भारत में सबसे ज्यादा बंगलौर शहर में यूनिकॉर्न बने हैं और इनकी कुल संख्या 28 है। सबसे ख़ास बात है कि 20 यूनिकॉर्न इस साल ही बने हैं। 

यह भी पढें; मानव सभ्यता की पहली मानव निर्मित वस्तु ने हमारी सौर मंडल को पार किया और अब वह इंटरस्टेलर स्पेस में पहुंच गई।

भारत में सबसे बड़ा यूनिकॉर्न बायजूस है। जिसकी कुल निवल मूल्य 21 बिलियन अमेरिकी डॉलर है। इसके बाद मोबाइल इन टेक इमोबी ($12USD)और ओयो रूम्स ($9USD) वाला है। 

यूनिकॉर्न के मामले में पहला और दूसरा स्थान

हुरून ग्लोबल यूनिकॉर्न इंडेक्स 2021 के अनुसार , यूनिकॉर्न के मामले अमेरिका और चीन पहले व दूसरे स्थान पर आतें हैं। अमेरिका में  वर्तमान समय में 487 यूनिकॉर्न हैं और इनमें पिछले साल की तुलना में 254 यूनिकॉर्न की वृद्धि हुई है। जबकि चीन में वर्तमान समय में 301 यूनिकॉर्न हैं। जिनमें 74 स्टार्टअप यूनिकॉर्न बने हैं।

यह भी पढ़ें; रिगेल तारे के बारे में अदभुत तथ्य

दुनिया का सबसे बड़ा यूनिकॉर्न स्पेस एक्स है। जिसके मालिक अमेरीकी उधमित एलोन मस्क हैं। आज स्पेस एक्स एलोन मस्क के नेतृत्व में दुनिया की सबसे सफ़ल प्राइवेट स्पेस एजेंसी है। 

यह भी पढ़ें; जेफ बेजॉस की एक दिन की कमाई आम भारतीय के कई जन्मों की कमाई के बराबर होती है।

दुनिया के सभी यूनिकॉर्न कुल 40 देशों से आते हैं। जिनमें इस वर्ष 19 ओर देशों की संख्या में वृद्धि हुई। जबकि शहरों की बात करें तो सभी यूनिकॉर्न दुनिया के 221 शहरों से हैं। हालाकि इनमें 145 शहरों की वृद्धि भी हुईं है।

हुरुन ग्लोबल यूनिकॉर्न इंडेक्स रिपोर्ट 2021

दुनिया में टॉप 10 मूल्यवान यूनिकॉर्न 

दुनिया के सभी यूनिकॉर्न में टॉप 10 यूनिकॉर्न 25% बेहद मूल्यवान हैं।  इनमें 4 अमेरिका से , 3 चीन से और 1-1 यूनाइटेड किंगडम, आस्ट्रेलिया व स्वीडन से आतें हैं।

भारत में स्टार्टअप के देवदूत

भारत में स्टार्टअप के देवतूत देश के जानें माने उद्योगपति रतन टाटा हैं। जिन्होंने बहुत सारे स्टार्टअप में पैसा लगाया। जिनमें पेटीएम , लेंसकार्ट, ओला इलेक्ट्रिक और स्नैपडील जैसे स्टार्टअप हैं। 

रतन टाटा के अलावा सुनील कालरा, संजय मेहता रंजन आनंदन आदि नाम हैं। जो स्टार्टअप की दुनिया में देवदूत कहलाते हैं। भारत में बढ़ते स्टार्टअप कल्चर के पीछे सरकार और रतन टाटा जैसे लोगों का हाथ है। जिनके कारण भारत स्टार्टअप के मामले जल्द ही चीन के आस पास होगा।

Post a Comment

Previous Post Next Post