दुनिया की टॉप 4 मंहगी टूर्नामेंट लीग, जिनमें भारतीय ब्रांड आईपीएल भी चौथे पायदान पर

दुनिया में अनेकों टूर्नामेंट लीग हैं। जिनमें कुछ विश्व प्रसिद्ध हैं और कुछ मूल देश तक ही सीमित रहतीं हैं। अगर हम बात करें तो दुनिया की चार खेल टूर्नामेंट लीग ऐसी हैं, जो विश्व में सबसे ज्यादा विख्यात और मंहगी खेल लीग हैं। जिनमें भारत की इंडियन प्रीमियर लीग भी शामिल हैं।

टॉप 4 लीग

टॉप 4 टूर्नामेंट लीग

1. नेशनल फ़ुटबॉल लीग (एन. एफ. एल.)

विश्व की सबसे विख्यात लीग नेशनल फुटबॉल लीग है, जिसके लिए पूरी दुनिया में दीवानगी है। यह एक यूरोपीय और उत्तरी अमेरिका की फुटबॉल लीग है। जिसके ज्यादातर दर्शक अमेरिका, कनाडा और ब्राज़ील से आते हैं। हालाकि दुनिया के दूसरे देशों में भी आईएफएल का प्रभाव है।

स्थापना

इसकी स्थापना 17 सितंबर 1920 को 101 साल पहले अमेरिका के केंटन ओहायो में हुईं थीं।  यह 1920 से पहले अमेरिकन प्रोफेशनल फुटबॉल कॉन्फ्रेंस और  अमेरिकन प्रोफेशनल फुटबॉल एसोसिएशन के नाम से जानी जाती थी।

कुल टीम

विश्व प्रसिद्ध इस लीग में कुल 32 टीमें शामिल हैं, जिसमें सबसे ज्यादा खिताब ग्रीन बे पैकर्स ने 13 बार जीतें हैं। अभी हाल का खिताब टेम्पा बे बुकेनियर्स ने जीता है।


राजस्व

नेशनल फुटबॉल लीग के एक वर्ष का राजस्व  16 बिलियन अमेरिकी डॉलर है। जोकि दुनिया का सबसे मंहगा खेल ब्रांड है। इसकी एक वर्ष की कमाई बताती है कि यह लीग देशों की सीमाओं को पार कर चुकी है।

2. मेजर लीग बेसवॉल, उत्तरी अमेरिका

मेजर लीग बेसबॉल एक प्रसिद्ध लीग है और जो दुनिया की सबसे पुरानी लीग भी है। जो लगभग 146 वर्ष पुरानी अमेरिकन बेसबॉल खेल टूर्नामेंट लीग है। अमेरीका में यह आईपीएल की तरह जानी जाती है। यह 1876 में नेशनल लीग के नाम से प्रसिद्ध थी। लेकिन सन् 1901 में राष्ट्रीय समझौते से यह अमेरिकन लीग में बदल गईं। किंतु सन् 2000 में यह एक संगठन के रूप में उभर कर आईं।

कुल टीम

मेजर लीग बेसबॉल में टीमों की संख्या कुल 30 होती है, जिसमें 29 अमेरिका की और 1 कनाडा की होती है।

राजस्व

यह लीग भी यूरोपियन फुटबॉल लीग की तरह बेहद मंहगी है, जिसका प्रति वर्ष राजस्व 10 बिलियन डॉलर रहता है।

3.नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन ( एनबीए )

एनबीए उत्तरी अमेरिका की एक पेशेवर बास्केटबॉल लीग है। इस लीग को जून 6, 1946 को 75 साल पहले बीएए (बास्केटबॉल एसोसिएशन ऑफ अमेरिका) के रूप में न्यूयॉर्क शहर में स्थापित किया गया था। लेकिन 3 अगस्त 1949 को बास्केटबॉल एसोसिएशन ऑफ अमेरिका और नेशनल बास्केटबॉल लीग को मिलाकर नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन कर दिया गया। 

कुल टीम

इसमें भी 30 टीमों की संख्या 30 होती है। जिसमें अमेरिका की 29 और कनाडा की 1 टीम होती है।

राजस्व

एनबीए की ओर से बताया गया है कि नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन का वर्ष 2021-2022 का राजस्व 10 बिलियन डॉलर रहने का अनुमान है। जबकि एनबीए के पिछले 2 वर्ष बेकार चले गए हैं।  क्योंकि कोविड 19 के कारण दर्शक भौतिक रूप से खेल देखने उपस्थित ही नहीं हों सकें थे।

4. इंडियन प्रीमियर लीग (आई. पी. एल.)

इंडियन प्रीमियर लीग एक वैसे क्रिकेट टूर्नामेंट है। जो पूरी दुनिया में  खेला जाता है। क्रिकेट के दर्शक पूरी दुनिया में आसानी से मिल जातें हैं। लेकिन क्रिकेट की बात हों और भारत का नाम न आए। ऐसा कभी नहीं हो सकता है। क्योंकि भारत में क्रिकेट लोगों के सिर चढ़कर बोल रहा है। यहीं कारण है कि दुनिया की टॉप 5 लीग में से एक इंडियन प्रीमियर लीग भी शामिल है। जो विश्व में आईपीएल के नाम से मशहूर है।

स्थापना

इंडियन प्रीमियर लीग की स्थापना 2007 में हुईं थीं और इसका पहला संस्करण सन् 2008 में सफलता पूर्वक हुआ था। 

टीम 

इस लीग में कुल 10 टीम हैं और जिनमे सबसे ज्यादा सफल मुम्बई इंडियन्स है। क्योंकि इसने कुल पांच बार आईपीएल का खिताब जीता है। आईपीएल 10 का खिताब महेंद्र सिंह धोनी की टीम चेन्नई सुपरकिंग्स ने जीता है।

अगर हम आईपीएल की ब्रैंड वैल्यू की बात करें। तो यह किसी से भी कम नहीं है। क्योंकि जब से आईपीएल की शुरूआत हुई है। तब से आईपीएल कमाई के सारे रिकॉर्ड तोड़ रहा है।  हालाकि कोविड 19 के कारण आईपीएल की ब्रैंड वैल्यू में अस्थाई तौर पर कमी आई है। किंतू जैसे ही आईपीएल कोविड 19 के प्रभाव से मुक्त होगा। वैसे ही यह विश्व की टॉप 3 टूर्नामेंट लीग में शामिल हो जायेगा।

राजस्व

अभी आईपीएल का एक वर्ष का कुल राजस्व 7 बिलियन डॉलर है। बीसीसीआई ने आईपीएल में दो ओर टीमों अहमदाबाद और लखनऊ को भी शामिल करने का निर्णय लिया है। जिससे बीसीसीआई को करीब 8000 करोड़ रुपए की आमदनी हो सकती है।

इसका ज्यादातर पैसा आईपीएल टीम की नीलामी, फ्रैंचाइजी स्पॉन्सरशिप और टीवी अधिकारों को बेचकर आता है। आईपीएल 10 का स्पॉन्सर चीनी मोबाइल निर्माता कंपनी वीवो थी। लेकिन बॉर्डर पर चीन के विस्तारवादी रवैया से हर भारतीय नाराज़ है। जिस कारण से बीसीसीआई पर बेहद दवाब आ रहा था। 

टाटा कंपनी, नई आईपीएल स्पॉन्सर

इसका प्रभाव भी स्पष्ट दिखाई पड़ने लगा है। इस वर्ष 2022 के आईपीएल 11 का स्पॉन्सर भारत की टाटा कंपनी है। जिसका  सभी भारतीयों ने स्वागत किया है। टाटा कंपनी भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को आईपीएल की स्पॉन्सरशिप के बदले में 354 करोड़ रूपए (प्रति वर्ष ) देगी।

Post a Comment

Previous Post Next Post