कुंठित विचारधारा के लोग सेना की नई वर्दी की प्रभाकरण लिट्टे से तुलना कर रहे, भारतीय सेना की नई वर्दी की विशेषताएं

भारतीय सेना ने 15 जनवरी  2022 को अपना 74 सेना दिवस समारोह मनाया ही है। इसी शुभ अवसर पर भारतीय सेना की पैराशूट रेजिमेंट के कमांडो भारतीय सेना की नई डिजिटल लड़ाकू वर्दी में  मार्च करते हुए दिखाईं दिए।यह पहली बार ऐसा हुआ है कि जब सेना ने सार्वजनिक रूप से वर्दी का अनावरण किया गया है।

भारतीय सेना की नई वर्दी

सेना की नई वर्दी को डिज़ाइन किया

भारत की सेना की नई वर्दी को राष्ट्रीय फैशन प्रौद्योगिकी संस्थान (निफ्ट) के सहयोग से डिजाइन किया गया है। जोकि उत्तर प्रदेश के रायबरेली में 2007 में स्थापित किया गया था। यह फैशन के क्षेत्र में डिग्री और प्रमाणपत्र प्रदान करता है। 

सेना की नई वर्दी में बदलाव

सेना की नई वर्दी बेहद सुविधाजनक , हल्की और जलवायु के अनुकूल है। जो छलावरण वर्दी (camouflage Uniform) और "डिजिटल विघटनकारी" तकनीक पर आधारित है। इसके अलावा 13 आकारों में उपलब्ध होगी।

यह कार्य के समय प्रभावी ढंग से उपयोग की जा सकती है।  और इसने अब अलग-अलग भोगौलिक इलाकों के लिए अलग-अलग वर्दी रखने की आवश्यकता को भी समाप्त कर दिया है। जबकि भारतीय सेना के जवान पहले जंगल युद्ध और रेगिस्तानी युद्ध के लिए अलग वर्दी का प्रयोग किया करते थे।

इस नई वर्दी को बेहद उन्नत तरीके से बनाया गया है। जिसमें कपास और पॉलिएस्टर का संयोजन किया गया है। जिसमें कपास की मात्रा 70% और पॉलिएस्टर की मात्रा 30% रखी गई है। इन विशेषताओं के साथ विभिन्न मौसम स्थितियों, बारिश या गर्मी में पहनना आसान होगा। जिसका कारण है कि यह आसानी से और जल्दी ही सूख जायेगा। इसकी दूसरी विशेषता है कि यह रेगिस्तान जैसी गर्मियों में भी टिकाऊ रहेगी।

अमेरीकी सेना की तर्ज़ पर भारतीय सेना की नई वर्दी

अगर ठीक से देखा जाए तो भारतीय सेना की नई वर्दी अमेरीकी सेना से मिलती जुलती है। अमेरीकी सेना  छलावरण वर्दी (camouflage Uniform) को पहनती है। जिसको अमेरिकी सेना द्वारा 2010 में अफगानिस्तान में पहनने के लिए ऑपरेशनल छलावरण पैटर्न के रूप में चुना गया था। इस वर्दी की खासियत है कि इसमें बेल्ट वर्दी के नीचे रहेगी। जबकि भारतीय सेना की पिछली वर्दी में बेल्ट हमेशा ऊपर रही है।

भारतीय और अमरीकी सैनिक 

अगर हम चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी की वर्दी को देखें तो उनकी दो तरह की वर्दियां हैं। जिनमें बेल्ट हमेशा पेट के ऊपर रखनी होती है। जोकि बहुत बुरा प्रतीत होता है।

श्रीलंका के लिट्टे की वर्दी से सेना की नई वर्दी की तुलना

कुछ देशद्रोही और कुंठित विचारधारा के लोग भारतीय सेना की नई वर्दी की तुलना श्रीलंका के अलगावादी प्रभाकरण लिट्टे से कर रहे हैं। उनका मानना है कि सेना की नई वर्दी लिट्टे की वर्दी से मिलती जुलती है। जबकि उसकी वर्दी और भारतीय सेना की नई वर्दी में धरती आसमान का अंतर है।

मेजर गौरव आर्या रिटायर

Post a Comment

Previous Post Next Post