पाकिस्तान में इमरान खान भ्रष्टाचारियों के किंग बन गए, भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक में खुलासा

भारत का पड़ोसी देश पाकिस्तान सिर से नीचे तक भ्रष्टाचार में डूबा हुआ है। आप इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि अभी हाल ही में प्रकाशित भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक में पाकिस्तान की रैंक 140 आईं है। यह रैंक खास इसलिए है। क्योंकि इमरान खान के नेतृत्व में पाकिस्तान की भ्रष्टाचार रैंक सबसे ज्यादा है।

इमरान खान के नेतृत्व में पाक की रैंकिंग

पीटीआई के पीएम इमरान खान की सरकार में पाकिस्तान की रैंकिंग में लगातार गिरावट आई है। जहां 2019 में, पाकिस्तान की रैंकिंग 180 देशों में से 120 थीं,  2020 में, यह 124 हों गई और 2021 में , पाक की रैंकिंग सबसे खराब होकर 140 हो गई

यह भी पढ़ें; चाइना चोरी छिपे पाकिस्तान को हाइपरसोनिक मिसाइल देने जा रहा। जानें विस्तार से

अगर हम नवाज शरीफ की सरकार के दौरान पाकिस्तान की भ्रष्टाचार रैंकिंग को देखें। तो इमरान खान नियाजी से तो बेहतर थी। 2018 में, PML-N सरकार के वक्त, पाकिस्तान 180 देशों में भ्रष्टाचार रैंकिंग में 117 पायदान पर था।

यह भी पढ़ें; एरदोगन ने तुर्की के नाम को ही बदल डाला, जानें तुर्की का नया नाम क्या है?

पाकिस्तान के भ्रष्टाचार में वहां की सेना का भी अहम रोल होता है। आखिर वहां की सेना बड़े बड़े उद्योग चला रही है। अगर सही में कहें तो वह एक उद्योगिक सेना हैं। इसलिए सेना के बड़े बड़े जनरल बड़े अमीर हैं। विदेशों में उनके बच्चे पढ़ाई करते और अंत में वही वस जाते हैं।

इमरान खान के मंत्री ही भ्रष्टाचारी

वैसे इमरान खान का भ्रष्टाचार से सीधा नाता नहीं है। लेकिन उनकी सरकार में शामिल लोग ही सबसे ज्यादा भ्रष्ट हैं। क्योंकि कुछ महीने पहले पंडोरा पेपर्स लीक में 700 पाकिस्तानी लोगों का नाम सामने आया था। जिनमें इमरान खान के कुछ मंत्रियों और अधिकारियों के नाम शामिल थे। यहीं कारण है कि पाकिस्तान में इमरान खान की पकड़ ढीली पड़ती जा रही है और कभी भी उनको पाकिस्तानी सेना पीएम पद से हटा सकती है। आखिर वह पीएम सेना की सहायता से ही बने हैं।

भारत की भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक में रैंकिंग

भारत ने पिछले दशक में भ्रष्टाचार के मामले पर सुधार किया है। इसलिए भारत की रैंकिंग 80 के क़रीब घूमती रहती है। 2021 में, भारत की रैंकिंग 85 आईं है। हालाकि अभी इसमें भी सुधार की जरुरत है। यह भी बात सच है कि भारत एक बड़ा देश है। जिसको भ्रष्टाचार से मुक्ति में अभी ओर कुछ वर्ष लग सकतें हैं। 2012 में , भारत की रैंकिंग 174 देशों के बीच 94 थीं और 2019 में  80 थी।

भारत के दूसरे पड़ोसी

चीन की भ्रष्टाचार रैंकिंग 180 देशों में 66 आईं है। जोकि भारत से थोड़ी अच्छी है। लेकिन यह भी सच्चाई है कि वह एक कम्यूनिस्ट और बंद देश है। जहां सरकार का मीडिया पर सख्त पहरा रहता है। इसलिए भ्रष्टाचार की ज्यादा खबरें रिपोर्ट ही नहीं हो पाती हैं।

भूटान 180/25
नेपाल 180/117
बांग्लादेश 180/147
अफ़ग़ानिस्तान 180/174
श्रीलंका 180/102
जापान 180/18
दक्षिण कोरिया 180/32

दुनिया के सबसे भ्रष्ट देश

अगर हम बात करें कि दुनिया का सबसे भ्रष्ट देश कोन सा है। तो वह दक्षिणी सूडान है। जिसकी रैंकिंग 180 देशों में से  180 आईं है। अर्थात दक्षिणी सूडान में हर चीज़ में भ्रष्टाचार व्याप्त है। इसके बाद सोमालिया का स्थान आता है। जिसकी रैंकिंग 178 है।

दुनिया में भ्रष्टाचार मुक्त देश

दुनिया में  तीन देश ऐसे हैं। जिनकी भ्रष्टाचार रैंकिंग 1 आईं है और वह देश डेनमार्क, फिनलैंड और न्यूज़ीलैंड हैं। दूसरे प्रमुख पश्चिमी देशों की भ्रष्टाचार रैंकिंग भी अच्छी आई।
संयुक्त राज्य अमरीका 180/27
यूनाइटेड किंगडम 180/11
ऑस्ट्रेलिया 180/18
बेल्जियम 180/18
फ्रांस 180/22
जर्मनी 180/10

Post a Comment

Previous Post Next Post