कपोतासन योगासन अर्थात् king pigeon Pose के सुबह सुबह करने से होने वाले लाभ/ चेस्ट कम करने का योगा। How to reduce chest by Yoga

King pigeon pose को आमतौर पर  कपोतासन के रूप में जाना जाता है। यह संस्कृत भाषा के कपो और आसन के दो शब्दों से मिलकर बना है। यहां कपो का मतलब "कबूतर" होता है और आसन का मतलब पोज अथवा शीट होती है।

  • कपोतासन की क्रिया विधि (Working Process of pigeon pose)

  1.  सबसे पहले  आप जमीन पर बज्रा आसन में बैठ जाएं। 
  2.  अब आप अपने एक पैर को पिछे की ओर ले जाएं और पैर को घुटने से मोड ले।
  3.  दोनों हाथों की कोहनियों को एक साथ ऊपर और हाथ की हथेलियों को पीछे की ओर ले जाएं।
  4. अब आप अपने दोनों हाथों से घुटने से मुड़े हुए पैर की अंगुलियों को पकड़े।
  5.  हाथों के बाद, अब आप छाती (Chest) को आगे तथा ऊपर की ओर हों और जितना संभव हों सकें "छाती" को फैलायें।
  6.  सिर थोड़ा ऊपर की ओर होना चाहिए और गर्दन का पिछला हिस्सा नीचे की ओर होना चाहिए।
  7.  एक पैर के कूल्हे के ठीक सामने का घुटना सामने की ओर हों।
  8.  पैर की एंडी कराहने की ओर झुकाना अर्थात फर्श की ओर झुका देना।
  9.  पेट थोड़ा पीछे क्रियाशील और सुरक्षित अवस्था में होना चाहिए।
  10.  अब हम पीठ के निचले हिस्से थोड़ालंबा करते हैं।
  11.  इस क्रिया को कम से कम 4 से 5 बार करना चाहिए।

    यह भी पढ़ें; रामानुजाचार्य की 216 फिट की स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, 1100 वर्ष पहले भारत में भक्ति, एकता और समानता की अलख जगाई


  • कपोतासन की सावधानियां (Precautions of King pigeon pose)

  1.  इस योगा को उन लोगों को नहीं करना चाहिए जिन्होंने अभी अभी योग करना शुरु किया।
  2.  इस योग को किसी योगा ट्रेनर की उपस्थिति में ही करना चाहिए। 
  3.  इस योगा को करते समय जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। जल्दबाजी खतरनाक हो सकती है।
  4.  इस योगा को घुटनों,जोड़ों  और रीड की हड्डी में दर्द वालों को नहीं करना चाहिए।
  5.  इसको हमेशा खाली पेट में करना चाहिए। अर्थात इसे सुबह के समय में ही करना चाहिए।

  • कपोतासन योगासन के लाभ (Profit of Kapotasan Yoga Pose)

  1.  इससे जोड़ो और घुटनों के दर्द में कमी आती है।
  2. इससे मूत्र मार्ग और प्रजनन तंत्र में सुधार होता है।
  3. इस योगा आसन से पेट, छाती और सिर में एक उत्तेजना का अनुभव होता है।
  4. इस योगा आसन को गर्भवती महिलाओं (Pregnant women)को नहीं करना चाहिए।
  5.  पेट संबंधित बीमारियों में कमी आती है।
  6.  पाचन शक्ति में वृद्धि होती है।
  7. यह योग आसन उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) और निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) के लिए लाभदायक है।
  8.  यह रीड की हड्डी, पैरो और हाथों की हड्डियों के दर्द को ठीक करने में मदद करता है।
यह भी पढ़ें;10 लाख करोड़ की अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन प्रशांत महासागर में 2031 में डूबने जा रही। नासा ने क्रैश कराने के निर्णय लिया

Post a Comment

Previous Post Next Post